Sunday, June 23, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeउत्तराखंडलाठीचार्ज के विरोध में छात्रों ने उठाया डिजिटल सत्याग्रह का हथियार

लाठीचार्ज के विरोध में छात्रों ने उठाया डिजिटल सत्याग्रह का हथियार

उत्तराखंड में हाल ही में हुए युवाओं पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में उत्तराखंड युवा एकता मंच, उत्तराखंड बेरोजगार संघ के साथ अन्य छात्रों ने डिजिटल सत्याग्रह का मन बना लिया है। जिसमे टि्वटर फेसबुक इंस्टाग्राम सहित तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का इस्तमाल विरोध प्रदर्शन करने के लिए किया जायेगा।

भर्ती घोटालों पर आवाज उठाने पर हुए लाठीचार्ज से धामी सरकार को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है। राज्य सरकार पर छात्रों की आवाज और युवाओं के ऊपर फर्जी मुकदमे के साथ नेतृत्व कर रहे युवाओं को नजरबंद किये जाने का आरोप लग रहा है। बेरजगार संघ का कहना है कि बॉबी पवार सहित 13 लोगों के ऊपर लगी संगीन धाराओं में अदालत ने भी सशर्त रिहाई दी जिसमे अब कि किसी भी उग्र आंदोलन में वह सम्मिलित नहीं हो पाएंगे। जिसके चलते युवाओं ने संवैधानिक रूप में अपना विरोध प्रकट करने के लिए डिजिटल क्रांति के इस युग में टि्वटर फेसबुक इंस्टाग्राम सहित तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को विरोध करने का हथियार के रूप में इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है।

उत्तराखंड युवा एकता मंच, उत्तराखंड बेरोजगार संघ सहित तमाम बेरोजगार,युवा हितैषी संगठनों ने डिजिटल सत्याग्रह का आवाहन करते हुए प्रदेश के युवाओं से आवाहन किया है।जिसमे रोजाना शाम 5:00 से 7:00 तक सोशल मीडिया में कम से कम 50 से 60 व अन्य साथियों के ट्वीट्स व अन्य लोगोकी पोस्ट को रिट्वीट कर और पोस्ट शेयर कर अपना विरोध संवैधानिक रूप में सरकार के सामने प्रकट करेंगे। बताते चलें कि आज डिजिटल आंदोलन के पहले दिन ही ट्विटर पर #UKCBI #trending पर था। इसके साथ साथ #devbhoomi_demand_cbi #उत्तराखंडमांगेसीबीआई, यह हेस्टैक भी trending पर थे.

पहले ही दिन लगभग 2 से 3 घंटों के अंदर ही लगभग #UKCBI के ट्वीट के लगभग 20000 ट्वीट्स हो गए। वहीं अन्य हैशटेक की संख्या मिलाकर आंकड़ा 50 से 55000 पहुंच चुका है। युवाओं पर हुए लाठीचार्ज पर कई भाजपा के बड़े नेता सहित पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी युवाओं से माफी मांग चुके हैं । पूर्व मुख्यमंत्री व महाराष्ट्र के पूर्व राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी भी सीबीआई जांच की मांग को जायज ठहरा चुके हैं । ऐसे में युवाओं को मनाने के लिए धामी सरकार द्वारा नकल विरोधी कानून के समर्थन में धन्यवाद यात्राओं का सिलसिला पूरे प्रदेश मैं शुरू कर दिया गया । जबकि सच्चाई यह थी कि नकल विरोधी कानून सरकार ने देहरादून में 8 फरवरी से शुरू हुए व्यापक आंदोलन के फल स्वरुप प्रदान किया पर क्रेडिट की लोलुपता में सरकार द्वारा पूरे प्रदेश भर में धन्यवाद यात्राएं निकालकर युवाओं को भ्रमित करने का प्रयास किया गया। प्रत्यक्ष रूप में सच्चाई यह है कि युवाओं की मांग अभी भी अडिग है कि प्रदेश की पूर्व की सभी भर्ती परीक्षाओं की सीबीआई जांच हो ।

उत्तराखंड बेरोजगार संघ व उत्तराखंड युवा एकता मंच ने अपने ऑफिशल टि्वटर फेसबुक सहित तमाम सोशल मीडिया हैंडल्स पर वर्तमान में उत्तराखंड सरकार वह केंद्र में भाजपा सरकार की मंशा में असमंजस की स्थिति पर व्यंग करते हुए अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री की वीडियो पोस्ट की है जहां सीधा सवाल यह पूछा गया है कि क्या अरुणाचल प्रदेश में सारी भर्तियां सीबीआई जांच के कारण रुक चुकी हैं ? वहीं राजस्थान में रीट पेपर लीक में भाजयुमो के राष्ट्रीय अध्यक्ष तेजेश्वर सूर्या भी सीबीआई जांच की मांग को लेकर युवाओं के साथ खड़े नजर आ रहे हैं तो वहीं भाजपा के प्रदेश प्रभारी सहित तमाम लोग राजस्थान में सीबीआई जांच की मांग करते नजर आ रहे थे । इसके अतिरिक्त हाल ही में हिमांचल में हुए पेपर ली प्रकरण में भी सीबीआई जांच के आदेश दे दिए गए हैं ।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें