Sunday, June 23, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeअन्यकेंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला से मिले सीएम धामी! पशुधन बीमा समेत इन...

केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला से मिले सीएम धामी! पशुधन बीमा समेत इन मुद्दों पर हुई बात

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी दिल्ली दौरे पर हैं। बीती रोज सीएम धामी ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी तो आज उन्होंने पशुपालन एवं डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने पशुधन बीमा की अवशेष धनराशि अवमुक्त करने, सचल पशु चिकित्सा वाहन मुहैया कराने का आग्रह किया।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली में केंद्रीय मत्स्य, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला से मुलाकात की। जहां उन्होंने उत्तराखंड में पशुपालन और डेयरी से संबंधित विषयों पर चर्चा की। इस दौरान सीएम धामी ने केंद्रीय मंत्री से नेशनल लाइव स्टॉक मिशन योजना के अंतर्गत पशुधन बीमा की अवशेष धनराशि अवमुक्त करने का आग्रह किया। साथ ही उत्तराखंड में संचालित सचल पशु चिकित्सा वाहन की सेवाएं 35 विकास खंडों में भी उपलब्ध कराए जाने का भी अनुरोध किया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड के विकास में सहयोग के लिए केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला का आभार जताया। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में संचालित विभिन्न रोजगार योजनाओं में पशुपालन से संबंधित योजनाओं का महत्वपूर्ण स्थान है। केंद्र सरकार की ओर से प्रदेश के सीमांत पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों के पशुपालकों के लिए नेशनल लाइव स्टाॅक मिशन योजना के तहत पशुधन बीमा का संचालन किया जा रहा है। सीएम धामी ने बताया कि इस योजना के तहत स्वीकृत 40 करोड़ रुपए के सापेक्ष वित्तीय वर्ष 2022-23 में 14 करोड़ 26 लाख 25 हजार रुपए की धनराशि प्राप्त हुई। जिसमें केंद्रांश 8 करोड़ 67 लाख 66 हजार रुपए और राज्यांश 5 करोड़ 58 लाख 59 हजार रुपए था। योजना के तहत उत्तराखंड में पशुधन बीमा के लक्ष्य के सापेक्ष 1,45,451 पशुओं का बीमा किया जा चुका है। वहीं, मुख्यमंत्री धामी ने केंद्रीय मंत्री से स्वीकृत योजना के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए स्वीकृत बजट की शेष धनराशि उपलब्ध करवाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से उत्तराखंड में पशुपालक के द्वार पर आधुनिक तकनीकी की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से 60 सचल पशु चिकित्सा वाहन संचालित किए जा रहे हैं। इनके माध्यम से 58,392 पशुओं की चिकित्सा पशुपालकों के द्वार पर की गई है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें