Thursday, May 30, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeअपराधसल्ट क्षेत्र खुमाड़ के शहीदों को सीएम धामी ने किया नमन, कहा-...

सल्ट क्षेत्र खुमाड़ के शहीदों को सीएम धामी ने किया नमन, कहा- विकल्प रहित संकल्प से उत्तराखंड बढ़ रहा आगे

उत्तराखंड के सीएम धामी ने अल्मोड़ा के खुमाड़ गांव पहुंचकर शहीद स्वतंत्रता सेनानियों की शहादत को नमन किया। सल्ट क्षेत्र के लगभग सभी गांवों से आजादी के आंदोलन की अलख जगी थी लेकिन खुमाड़ गांव में चार सेनानियों की शहादत ने सल्ट को अमर कर दिया है इसी क्रम में सीएम पुष्कर सिंह धामी ने अल्मोड़ा के खुमाड़ गांव पहुंचकर शहीद स्वतंत्रता सेनानियों की शहादत को नमन किया इस दौरान एक जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम धामी ने कहा कि खुमाड़ अल्मोड़ा के उन महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को नमन करता हूं जिन्होंने देश की आज़ादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दी. मैं स्वर्गीय सुरेंद्र सिंह जीना को भी नमन करता हूं, जिन्होंने इस क्षेत्र को आगे बढ़ाने में अपना योगदान दिया है।

उन्होंने कहा कि ये क्षेत्र आंदोलन के लिए जाना जाता है अल्मोड़ा में शिक्षक रहते हुए पुरुषोत्तम उपाध्याय एवं लक्ष्मण सिंह अधिकारी ने देश के लिए बड़ा योगदान दिया उनके इस योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। सीएम धामी ने आगे कहा कि उत्तराखंड को श्रेष्ठ राज्य बनाने के लिए हमने विकल्प रहित संकल्प लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बात को केदारनाथ में कह चुके हैं कि आने वाला दशक उत्तराखंड का होगा। इस दौरान एक जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम धामी ने कहा कि इस वर्ष चारधाम यात्रा और कांवड यात्रा में भी रिकॉर्ड तोड़ यात्री आए हैं। गढ़वाल क्षेत्र में चारधाम को संवारने का काम चल रहा है. कुमाऊं क्षेत्र में मानस खंड माला मिशन के तहत हम मंदिरों का पुनरोद्धार कर रहे हैं। टनकपुर से बागेश्वर रेल लाइन के सर्वे का काम चल रहा है अल्मोड़ा का मेडिकल कॉलेज भी विधिवत रूप से चालू होने जा रहा है मैं प्रधानमंत्री मोदी और स्वास्थ्य मंत्री का भी आभार प्रकट कर रहा हूं। आज प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत दुनिया को दिशा देने वाले देश के रूप में जाना जा रहा है समृद्ध भारत, मजबूत भारत के रूप में आज देश दुनिया के सामने खड़ा है।

आपको बात दे पांच सितंबर 1942 का दिन था महात्मा गांधी की मुहिम अंग्रेजों भारत छोड़ो के तहत खुमाड़ में जनसभा चल रही थी जनसभा में बड़ी संख्या में लोग जुटे थे रानीखेत से परगना मजिस्ट्रेट जॉनसन दलबल के साथ विद्रोह को कुचलने पहुंचे टकराव के चलते जानसन ने गोलियां चलवाईं जिसमें दो भाई खीमानंद और गंगाराम के साथ ही बहादुर सिंह और चूड़ामणि शहीद हो गए इनके अलावा 12 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हो गए इसी शहादत की याद में हर साल खुमाड़ स्थित शहीद स्मारक पर शहीद दिवस समारोह आयोजित किया जाता है बताया जाता है कि सल्ट क्षेत्र में स्वतंत्रता आंदोलन की अलख 1921 से ही सुलगने लगी थी. धीरे-धीरे आंदोलन ने व्यापक रूप ले लिया नतीजतन सल्ट में ब्रिटिश शासन बेअसर हो गया यहां बागियों की समानांतर सरकार कायम हो गई खुमाड़ निवासी पंडित पुरुषोत्तम उपाध्याय और लक्ष्मण सिंह अधिकारी के नेतृत्व में सल्ट क्षेत्र में अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोला गया. 1931 में मोहान के जंगल में बड़ी तादाद में गिरफ्तारियां भी हुईं।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें