Tuesday, April 23, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeनैनीतालनैनीताल– समान नागरिक सहिंता की विशेषज्ञ समिति ने राज्य में यूनिफॉर्म सिविल...

नैनीताल– समान नागरिक सहिंता की विशेषज्ञ समिति ने राज्य में यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने को लेकर जनप्रतिनिधियों, महिलाओं व आम जनमानस से किया विचार विमर्श

नैनीताल। उत्तराखंड शासन द्वारा गठित समान नागरिक सहिंता की विशेषज्ञ समिति के चैयरपर्सन न्यायाधीश सेवानिवृत्त रंजना प्रकाश देसाई की अध्यक्षता मे मंगलवार को राज्य अतिथि गृह, नैनीताल में समान नागरिक सहिंता एक्ट चैयरपर्सन व सदस्यों द्वारा समान नागरिक सहिंता का परीक्षण एवम क्रियान्वयन हेतु बैठक आयोजित हुई जिसमे विभिन्न समुदाय, जनप्रतिनिधियों, महिलाओं व आम जनमानस से वार्ता, चर्चा ,एव विचार विमर्श लिए गये ताकि एक्ट मे सम्मिलित किया जा सके।
चैयरपर्सन माननीय न्यायाधीश सेवानिवृत्त रंजना प्रकाश देसाई ने कहा की समिति राज्य के सभी समुदाय, जनप्रतिनिधियों, के लोगो के साथ विचार एव सुझाव लिए जा रहे है समिति उन पर गम्भीरता से अध्यन कर उत्तराखंड शासन को रिपोर्ट को प्रस्तुत करेगी ताकि समान नागरिकता सहिंता एक्ट मे सम्मिलित कर एक सशक्त एक्ट बन सके। उन्होंने कहा कि अभी तक समान नागरिक संहिता की वेबसाइट, मेल, व्हाट्सएप ग्रुप एवं जनपद भ्रमण के दौरान सवा दो लाख सुझाव और विचार प्राप्त हो चुके हैं।
बैठक के दौरान विभिन्न समुदाय, जनप्रतिनिधियों, महिलाओं व आम जनमानस द्वारा अपने विचार एवं सुझाव रखें मैं शादी की उम्र 18 से 21 या अधिक रखने, जब लड़की की शादी होनी निश्चित हो उस समय कम से कम लडकी ग्रेजुएशन होना अनिवार्य, संपत्ति में लड़का लड़की के साथ ही तीसरा हिस्सा माता-पिता का भी हो, लिविंग रिलेशनशिप के दौरान जो बच्चे पैदा होते हैं उनकी देखरेख हेतु कानून , बच्चे को गोद लेने, शादी का रजिस्ट्रेशन अनिवार्य, तलाक, बाल विवाह, लिविंग रिलेशनशिप का भी रजिस्ट्रेशन,आदि पर अपने विचार और सुझाव दिए।

बैठक मे विशेषज्ञ समिति के चैयरपर्सन के साथ समिति के सदस्य माननीय न्यायधीश सेवानिवृत्त प्रमोद कोहली, सदस्य सामजिक कार्यकर्ता मनु गौर, सेवानिवृत्त आईएएस शत्रुघ्न शामिल ,अपर जिलाधिका शिवचरण दिवेदी,एसडीएम राहुल शाह, सांसद प्रतिनिधि गोपाल रावत, नगर पालिका अध्यक्ष सचिन नेगी, मारुति नंदन साह, ईओ नगर पालिका नैनीताल पूजा के साथ ही छात्र-छात्राओं, पार्षदों, जनप्रतिनिधियों एवं आम लोगों ने सुझाव एवं विचार बैठक में प्रतिभाग करते हुए अपने अपने विचारों को समान नागरिक संहिता की विशेषज्ञ गठित समिति के सम्मुख रखी।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें