Sunday, May 26, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeउत्तराखंडउत्तराखंड: जल्द नए कलेवर में दिखाई देगा उत्तरकाशी का जादूंग गांव! भवनों...

उत्तराखंड: जल्द नए कलेवर में दिखाई देगा उत्तरकाशी का जादूंग गांव! भवनों के जीर्णोद्धार की कवायद तेज

उत्तरकाशी जनपद की चीन सीमा से लगा जादूंग गांव फिर से आबाद होगा। गांव में खंडहर हो चुके घरों के जीर्णोद्धार की योजना पर काम शुरू हो गया है। केंद्र व राज्य सरकार की सीमांत गांव को दोबारा बसाने की योजना के तहत हाल में वास्तुविद केसी कुड़ियाल ने गांव में बने पुराने घरों के जीर्णोद्धार के लिए उनका अवलोकन किया। बताया कि गांव में छह भवन खंडहर हो चुके हैं। जिनके जीर्णोद्धार के साथ कुल दस घर तैयार किए जाएंगे। इसके लिए जल्द ही डीपीआर तैयार किया जाएगा।

केंद्र सरकार ने देश के सीमावर्ती गांवों के विकास के लिए वाइब्रेंट विलेज योजना तैयार की है। इसी योजना के तहत यहां चीन सीमा से लगे जादूंग गांव को फिर से बसाने की योजना है। जिसके तहत गांव में खंहडर हो चुके घरों का जीर्णोद्धार किया जाएगा। गांव के जीर्णोद्धार के लिए प्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग ने राज्य के जाने-माने वास्तुविद केसी कुड़ियाल की कंपनी केसी कुड़ियाल एंड एसोसिएट्स को जिम्मेदारी सौंपी है। हाल में गांव का दौरा कर लौटे वास्तुविद केसी कुड़ियाल ने बताया कि सीमांत जादूंग गांव में वर्तमान में छह घर हैं लकड़ी और पत्थर से बने ये सभी घर खंडहर में तब्दील हो चुके हैं। इन सभी की नाप-जोख की गई है। जिसके बाद इन घरों का प्राचीन स्वरूप में जीर्णोद्धार किया जाएगा.बताया कि इसके साथ ही यहां स्थित लाल देवता मंदिर सहित कुछ अन्य मंदिरों को भी संवारा जाएगा। उन्होंने दस दिन में इसके लिए डीपीआर (विस्तृत कार्य योजना) तैयार कर लेने की बात कही. बताया कि राज्य सरकार गांव के जीर्णोद्धार के लिए दस करोड़ रुपए का बजट खर्च करने को तैयार है। बताया कि गांव के आबाद होने से क्षेत्र में पर्यटन के साथ सामरिक मजबूती भी मिलेगी। गौर हो कि भारत-चीन सीमा पर बसा नेलांग व जादूंग गांव कभी आबाद हुआ करता था। जिसमें जाड़-भोटिया समुदाय के करीब 50 परिवार निवास करते थे। लेकिन साल 1962 में भारत-चीन युद्ध के दौरान इन दोनों गांवों को खाली कराया गया। नेलांग गांव में अब ज्यादातर क्षेत्र में आईटीबीपी व सेना काबिज है। जिसके चलते यहां पुराने घर नहीं बचे हैं। हालांकि जादूंग में पुराने घरों के अवशेष बचे हैं। जिसके बाद जादूंग गांव में बने पुराने घरों के जीर्णोद्धार की योजना पर काम करना शुरू कर दिया है। लेकिन नेलांग घाटी में अब तक इनर लाइन की बंदिश बरकरार है। जिसको लेकर भी कार्य चल रहा है। जबकि इन दोनों गांवों में एसटी परिवार के लोग निवास करते थे।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें