Monday, February 26, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeउत्तराखंड76 हजार हेक्टेयर जंगलों को आग से बचाने के लिए अल्मोड़ा जिले...

76 हजार हेक्टेयर जंगलों को आग से बचाने के लिए अल्मोड़ा जिले में बनेंगे 155 क्रू सेंटर

अल्मोड़ा। फॉयर सीजन नजदीक आते ही जंगलों को आग से बचाने को लेकर वन विभाग की चिंता बढ़ गई है। ऐसे में वन विभाग ने आग से जंगलों की सुरक्षा के लिए क्रू सेंटर स्थापित कर दिए हैं। जिले में 155 क्रू सेंटर बनाए गए हैं, जिनके माध्यम से 76 हजार हेक्टेयर जंगलों को आग से बचाया जा सकेगा। हर सेंटर में 4 फायर वॉचर तैनात रहेंगे।
 
अल्मोड़ा जनपद में वन प्रभाग के अधीन 61082 व सिविल सोयम के अधीन 15815 हेक्टेयर जंगल है। 15 फरवरी से शुरू होने वाले फायर सीजन को लेकर वन विभाग ने इन जंगलों को आग से बचाने की तैयारी शुरू कर दी है। विभागीय अधिकारियों के मुताबिक जिले भर में आग से जंगलों की सुरक्षा के लिए 155 क्रू सेंटर स्थापित किए गए हैं। इन क्रू सेंटरों में 620 फॉयर वॉचर तैनात होंगे। हर सेंटर में तैनात चार-चार फायर वॉचरों की अपने अधीन जंगल की सुरक्षा की जिम्मेदारी होगी।
 
नहीं बचा सके जंगलों को तो तुरंत हटाए जाएंगे फायर वॉचर
विभागीय अधिकारियों के मुताबिक वन विभाग के पास जंगलों के इतने बढ़े दायरे की सुरक्षा के लिए कर्मचारियों की भारी कमी है। ऐसे में जंगलों में आग की घटनाओं को रोकने के लिए मानदेय पर फायर वॉचरों की तैनाती की जा रही है। यदि संबंधित क्रू सेंटर के अधीन जंगलों में आग लगी तो वहां तैनात फायर वॉचरों को नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा। ऐसी स्थिति में उन्हें तुरंत हटा दिया जाएगा।
 
इस बार बने 16 नए क्रू सेंटर
अल्मोड़ा। इस बार वन विभाग को मौसम का साथ नहीं मिला। फायर सीजन से पूर्व ही जंगलों में आग की कई घटनाएं सामने आ चुकी हैं। जाड़ों में बारिश न होने से फायर सीजन में आग की घटनाएं बढ़ने की संभावना को देखते हुए वन विभाग ने इस बार जिले भर में 16 नए क्रू सेंटर बनाने पड़े हैं। अल्मोड़ा रेंज में 4, द्वारहाट रेंज में 2, सोमेश्वर रेंज में 6, रानीखेत रेंज में 4 नए क्रू सेंटर स्थापित किए गए हैं।
 
निश्चित तौर पर इस बार बारिश न होने से जंगलों में आग की घटनाएं बढ़ने की संभावना है, जिससे निपटने के तैयारी की जा रही है। जिले में 155 क्रू सेंटर स्थापित किए गए हैं, जिनमें फायर वाचरों की तैनाती की जा रही है। विभाग जंगलों की सुरक्षा के लिए गंभीरता से काम करेगा।
महातिम यादव, डीएफओ, अल्मोड़ा।
सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें