Saturday, April 13, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeउत्तराखंडSTF के हत्थे चढ़े फॉरेस्ट गार्ड एग्जाम में नकल कराने का टेंडर...

STF के हत्थे चढ़े फॉरेस्ट गार्ड एग्जाम में नकल कराने का टेंडर लेने वाले दो आरोपी

देहरादून: वन आरक्षी परीक्षा में नकल कराने का षडयंत्र रचने वाले दो आरोपियों को उत्तराखंड एसटीएफ (स्पेशल टास्क फोर्स) ने गिरफ्तार किया है. एसटीएफ की गिरफ्त में आया एक आरोपी कोचिंग सेंटर संचालक है और दूसरा कोचिंग सेंटर के संचालक का दोस्त. दोनों हरिद्वार जिले के गुरूकुल नारसन से गिरफ्तार किया गया है. एसटीएफ एसएसपी आयुष अग्रवाल के मुताबिक आरोपियों के पास से परीक्षा में नकल कराने के लिए प्रयोग की जाने वाली साम्रगी ब्लूटूथ डिवाइस की बरामद हुई है. दोनों के खिलाफ हरिद्वार के थाना मंगलौर में मुकदमा दर्ज किया गया है.एसटीएफ एसएसपी आयुष अग्रवाल ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि कुछ लोग हरिद्वार क्षेत्र में रविवार को होने वाली वन आरक्षी परीक्षा में शामिल होने जा रहे परीक्षार्थियों से धनराशि लेकर नकल कराने के जुगाड़ में लगे हैं. उनमें से एक व्यक्ति एमएस कोचिंग सेंटर का संचालक मुकेश सैनी है, जो पहले भी नकल कराने के आरोप में जेल जा चुका है. मुकेश सैनी एक कुख्यात नकल माफिया है. एसएसपी ने देरी किए बिना तत्काल एमएस कोचिंग सेंटर गुरूकुल नारसन पर छापेमारी की, जहां से पुलिस ने मुकेश सैनी और उसके एक साथी रचित पुंडीर को गिरफ्तार किया.

एसटीएफ एसएसपी आयुष अग्रवाल ने बताया कि आरोपी मुकेश सैनी पहले भी कई बार परीक्षाओं में नकल करा चुकी है. इलाके में मुकेश सैनी को नकल माफिया के नाम से जाना जाता है. नकल करके परीक्षा पास करने के इच्छुक अभ्यर्थी लगातार मुकेश सैनी के संपर्क में रहते है. फरवरी 2020 में आयोजित वन आरक्षी भर्ती परीक्षा में मुकेश सैनी ने अपने साथियों के साथ मिलकर बड़े पैमाने पर नकल कराई गई थी. आरोपी ने पहले की तरह इस बार भी वन आरक्षी परीक्षा में अपने साथी रचित पुंडीर के साथ मिलकर नकल कराने की योजना बनाई थी.इसके लिये उसने लगभग 15 अभ्यर्थियों से लगभग चार-चार लाख रुपए मांग थे. एंडवास के तौर पर अभ्यर्थियों से 50 हजार से लेकर डेढ लाख रुपए तक लिए गए हैं. कुछ अभ्यर्थियों को परीक्षा में नकल के लिये ब्लुटूथ डिवाइस दे दी गई थी. साथ ही उसके प्रयोग तरीका भी बता दिया गया था.सहायक प्रोफेसर रचित पुंडीर भी जा चुके हैं जेल: पुलिस के मुताबिक रचित पुंडीर हरिद्वार के एक कॉलेज में सहायक प्रोफेसर हैं, जो पहले भी वन आरक्षी परीक्षा में प्रश्न पत्र मुकेश सैनी को परीक्षा के दौरान भेजने के आरोप में जेल जा चुका है. रचित पुण्डीर ने आगामी वन आरक्षी परीक्षा में परीक्षा केंद्र में अपनी कक्ष निरीक्षक के पद पर ड्युटी लगवाने की तैयारी कर ली थी, जहां से इसकी योजना परीक्षा के दौरान प्रश्न पत्र को व्हाट्सअप और अन्य माध्यम से मुकेश सैनी को भेजने की थी.

मुकेश सैनी इस प्रश्न पत्र को अपने साथियों के साथ मिलकर हल करता और छात्रों को दी गई डिवाइस पर कॉल करके उत्तर बताए जाते हैं. एसटीएफ को जांच के बाद तीन अभ्यर्थी प्रदीप, अभिषेक और अंकुल के बारे में जानकारी मिली है और अन्य अभ्यर्थियों के सम्बन्ध में जानकारी की जा रही है. आरोपी मुकेश के खिलाफ हरिद्वार में आईटी एक्ट सहित गैंगस्टर में चार मुकदमे दर्ज हैं और रचित के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में दो मुकदमे दर्ज हैं.पुलिस की अपील: यदि आयोग की आगामी परिक्षाओं में अनियमितता और नकल के सम्बन्ध में कोई भी जानकारी हो तो खुद या मोबाइल के द्वारा सूचना दे सकता है, जिनकी पहचान गोपनीय रखी जायेगी. नम्बर- 01352651689 मेल आईडी spstf-uk@nic.in पर जानकारी दें.

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें