Wednesday, July 17, 2024
No menu items!
Google search engine
- Advertisement -spot_imgspot_img
Homeमतदानराष्ट्रीय मतदाता दिवस विशेष! जानिए प्रत्येक वर्ष 25 जनवरी को क्यों...

राष्ट्रीय मतदाता दिवस विशेष! जानिए प्रत्येक वर्ष 25 जनवरी को क्यों मनाया जाता हैं राष्ट्रीय मतदाता दिवस, किस उद्देश्य के साथ मनाया जाता है यह दिन….

नई दिल्ली। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा प्रत्येक वर्ष 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता हैं।एनवीडी को राष्ट्रीय, राज्य, जिला, निर्वाचन क्षेत्र और मतदान केंद्र स्तरों पर मनाया जाता है, जो इसे देश के सबसे बड़े समारोहों में से एक बनाता है। आइए आपको बताते हैं की आखिर 25 जनवरी को ही इसे क्यों मनाया जाता है और इसके पीछे उद्देश्य क्या है।

क्यों मनाया जाता राष्ट्रीय मतदाता दिवस..
भारतीय चुनाव आयोग (election Commission of India) की स्थापना 1950 में हुई, जिसके 61वें स्थापना वर्ष 25 जनवरी 2011 से राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने का फैसला लिया गया और तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने इसकी शुरुआत की थी। भारत का लोकतंत्र विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र माना जाता है, इसी को देखते हुए राष्ट्रीय मतदान दिवस (National Voter Day) मनाने का निर्णय लिया गया था।
जिसके बाद 2011 से ही भारत के निर्वाचन आयोग के स्थापना दिवस, यानी 25 जनवरी 1950 को चिन्हित करने के लिए पूरे देश में हर साल 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है। इस एनवीडी उत्सव का मुख्य उद्देश्य नागरिकों में चुनावी जागरूकता पैदा करना और उन्हें चुनावी प्रक्रिया में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना है। देश के मतदाताओं को समर्पित, राष्ट्रीय मतदाता दिवस का इस्तेमाल मतदाताओं, खासकर नए-नए पात्र युवा मतदाताओं के नामांकन की सुविधा के लिए भी किया जाता है। देश भर में आयोजित एनवीडी समारोहों में नए मतदाताओं का अभिनंदन किया जाता है और उन्हें अपना मतदाता फोटो पहचान पत्र (ईपीआईसी) सौंपा जाता है।


इस वर्ष यह होगी थीम…..
इस वर्ष के राष्ट्रीय मतदाता दिवस (एनवीडी) का विषय ‘नथिंग लाइक वोटिंग, आई वोट फॉर श्योर’ (वोटिंग बेमिसाल है, मैं अवश्य वोट देता हूं) मतदाताओं को समर्पित है जो वोट की शक्ति के माध्यम से चुनाव प्रक्रिया में भागीदारी के प्रति व्यक्ति की भावना और आकांक्षा को व्यक्त करता है। इसके लोगो को चुनाव प्रक्रिया के उत्सव और समावेशिता को प्रदर्शित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसकी पृष्ठभूमि में अशोक चक्र दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व करता है, जबकि स्याही लगी उंगली देश के प्रत्येक मतदाता की भागीदारी का प्रतिनिधित्व करती है। इस लोगो में जो टिकमार्क है वो मतदाता द्वारा सूचित निर्णय लेने का प्रतीक है।

सम्बंधित खबरें
- Advertisment -spot_imgspot_img

ताजा खबरें